बड़ी खबरNewspolitics

सौभाग्य से मिली, यह मुलाकात है अनूपम, लालकृष्ण आडवाणी को दिखाई भारत रत्न की ऊँचाई

लालकृष्ण आडवाणी होंगे भारत रत्न से सम्मानित, पीएम मोदी ने मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न से सम्मानित करने की घोषणा की है। वही पीएम मोदी ने आडवाणी से एक विशेष मुलाकात भी की है.

लालकृष्ण आडवाणी, भारतीय राजनीति में अपने योगदान के लिए जाने जाते हैं और उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया जाना एक महत्वपूर्ण कदम होगा। उनके नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने 1996 में चुनाव जीतकर सरकार बनाई थी, और आडवाणी ने उस समय उप-प्रधानमंत्री का कार्य भी संभाला था।

इस समय की घोषणा ने राजनीतिक दलों और जनता के बीच विभिन्न प्रतिक्रियाएं उत्पन्न की हैं। बहुत लोग इसे एक सांत्वना समाचार मान रहे हैं, जबकि कुछ लोग इसे सियासी हवा बनाम दिखा रहे हैं। आडवाणी के समर्थन में बयान देने वाले कई राजनेता भी हैं जो मानते हैं कि उन्हें इस सम्मान का हक है। भारत रत्न का श्रृंगार एक ऐतिहासिक समारोह के रूप में होगा, जिसमें लाल कृष्ण आडवाणी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा सम्मानित किया जाएगा। इस समर्थन के बाद, आडवाणी की राजनीतिक और सामाजिक यात्रा को एक नया मोड़ मिलेगा, जो उनके योगदान को मान्यता प्रदान करेगा।

यह भी पढ़े   मोदी सरकार का अंतरिम बजट पेश, मध्यमवर्गीय को 300 यूनिट बिजली, ऐसे मिलेगा फायदा

लालकृष्ण आडवाणी, भारतीय राजनीति के एक प्रमुख और अगुआ नेता थे, उनके जीवन का विस्तृत आलेख लिखना एक जटिल कार्य है। आडवाणी ने अपने लंबे और समृद्धि भरे जीवन में अनेक महत्वपूर्ण योगदान दिए हैं, जिन्होंने भारतीय राजनीति को सांगड़ार करने में मदद की है।

यह भी पढ़े   भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी | Bharat Ratna Atal Bihari Vajpayee

लालकृष्ण आडवाणी का जन्म ३१ अक्टूबर, १९२७ को हुआ था. उनका राजनीतिक सफर १९५२ में आरंभ हुआ जब वह भारतीय जनसंघ के साथ जुड़े। आडवाणी ने अपने जीवन के प्रारंभिक दिनों में विभिन्न स्तरों पर सार्वजनिक सेवा में योगदान दिया, राजनीती में जोन प्रमुख, प्रदेश प्रमुख और राष्ट्रीय सचिव जैसे पदों पर कार्य करते हुए उन्होंने उप प्रधानमंत्री तक का सफर किया।

लालकृष्ण आडवाणी को अपनी विवेकपूर्ण और समर्पित राजनीतिक दृष्टिकोण के लिए जाना जाता है। उन्होंने भारतीय जनसंघ के साथ मिलकर भारतीय राजनीति में सकारात्मक परिवर्तन के लिए काम किया और एक नेतृत्व दिखाया जो समृद्धि, समर्पण, और सेवा की भावना से भरा हुआ था। उन्होंने भारतीय राजनीति में अपनी पहचान स्थापित करते हुए कई महत्वपूर्ण योजनाओं और परियोजनाओं का समर्थन किया, जो समाज के विकास और कल्याण के लक्ष्य की प्राप्ति में मदद करते हैं। लालकृष्ण आडवाणी का विचारशील और सामाजिक सोचने का तरीका हमेशा प्रशंसा प्राप्त करता रहा है। उनकी बुद्धिमत्ता और नेतृत्व क्षमता ने उन्हें देशभक्ति और सार्वभौमिक सेवा के क्षेत्र में एक महान नेता बना दिया है।

  • प्रधानमंत्री मोदी ने आडवाणी के साथ हुई मुलाकात के बाद सोशल मीडिया पर लिखा की

“मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि श्री लालकृष्ण आडवाणी जी को भारत रत्न से सम्मानित किया जाएगा। मैंने भी उनसे बात की और इस सम्मान से सम्मानित होने पर उन्हें बधाई दी। हमारे समय के सबसे सम्मानित राजनेताओं में से एक, भारत के विकास में उनका योगदान अविस्मरणीय है। उनका जीवन जमीनी स्तर पर काम करने से शुरू होकर हमारे उपप्रधानमंत्री के रूप में देश की सेवा करने तक का है। उन्होंने हमारे गृह मंत्री और सूचना एवं प्रसारण मंत्री के रूप में भी अपनी पहचान बनाई। उनके संसदीय हस्तक्षेप हमेशा अनुकरणीय और समृद्ध अंतर्दृष्टि से भरे रहे हैं।

सार्वजनिक जीवन में आडवाणी जी की दशकों लंबी सेवा को पारदर्शिता और अखंडता के प्रति अटूट प्रतिबद्धता द्वारा चिह्नित किया गया है, जिसने राजनीतिक नैतिकता में एक अनुकरणीय मानक स्थापित किया है। उन्होंने राष्ट्रीय एकता और सांस्कृतिक पुनरुत्थान को आगे बढ़ाने की दिशा में अद्वितीय प्रयास किए हैं। उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया जाना मेरे लिए बहुत भावुक क्षण है।’ मैं इसे हमेशा अपना सौभाग्य मानूंगा कि मुझे उनके साथ बातचीत करने और उनसे सीखने के अनगिनत अवसर मिले”

प्रधानमंत्री

नरेन्द्र मोदी

अजब पंचायत की गजब कहानी, 4 साल से महिला सरपंच विकास कार्यों के लिए जगह-जगह अधिकारियों को लगा रही है गुहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
.site-below-footer-wrap[data-section="section-below-footer-builder"] { margin-bottom: 40px;}