Newsखास खबरबड़ी खबर

कुम्भलगढ़ अभ्यारण्य जलस्त्रोत बिंदुओं पर हुई प्रवासी जलपक्षी गणना-धूप सेंकते नजर आए मगरमच्छ

कुम्भलगढ़ अभ्यारण्य कार्यवाह सहायक वन सरंक्षक देसूरी रेंजर भेरूसिंह राठौड़ की देखरेख में सम्पन्न मध्य शीतकालीन जलपक्षी गणना 24 पक्षी विशेषज्ञ वनरक्षक भेराराम विश्नोई वनपाल सत्येंद्र, कुलदीपसिंह रुगाराम, सतीश प्रजापत द्वारा सम्पन्न की गई.

कुम्भलगढ़ वन्यजीव अभयारण्य वनक्षेत्र में प्राकृतिक जलस्त्रोत बिंदुओं पर विभागीय निर्देशानुसार बुधवार को मध्य शीतकालीन जलपक्षी जनगणना 2024 पूर्ण हुई जिसमें सादडी व देसूरी रेंज के 5जलस्त्रोत पर यह प्रवासी पक्षी गणना हुई,जलस्त्रोत में पानी की अधिकता के कारण प्रवासी पक्षी की आवक फिलहाल कम दर्ज हुई जो आगामी दिनों में इनकी सख्या बढ़ेगी,गणना दौरान कई प्रजाति के प्रवासी पक्षी नजर आए इनके साथ बांध चट्टानों पर धूप सेवन करते मगरमच्छ भी नजर आए।

अभयारण्य एसीएफ रेंजर भेरूसिंह राठौड़ ने बताया कि हरवर्ष भांति इसवर्ष भी मध्य शीतकालीन जलपक्षी गणना 31 जनवरी से 2 फरवरी तक सम्पन्न होगी, रावली टॉडगढ़ व कुम्भलगढ़ अभ्यारण्य के कुल 23 जलस्त्रोत इसके लिए चिन्हित है जिसमे सादडी व देसूरी रेंज में क्रमशःराणकपुर/सादडी बांध,नलवानिया बांध, लाटाड़ा बांध, सेली बांध व छोड़ा बांध पर बुधवार को यह प्रवासी जलपक्षी गणना हुई.

पक्षी विशेषज्ञ वनरक्षक भेराराम विश्नोई ने बताया कि लिटिल ग्रेब, ग्रेट व लिटिल कोरमोरेंट,ग्रेट हैरान,प्रपल व पोंड हैरान, लिटिल, ग्रेट व केटल इग्रेट, पेटेंट स्टोर्क, वूली नेकर्ड स्टोर्क, ब्लेक हेडेड आइबिस, ग्लोसी आइबिस, ब्राह्मणी डक, नोर्दन पेनटेल, स्पोट बिल डक, कॉम्ब डक, कॉमन कूट, लेपविंग, लिटिल रिंग प्लोवर, सेंड पाइपर, ग्रीन सेंड पाइपर, रिवर टर्न, किंग फिशर, वेग टेल सहित विभिन्न प्रजाति के प्रवासी व स्थानीय जलपक्षी नजर आए.

इसवर्ष सभी बांध में पानी की अधिकता से प्रवासी जलपक्षी फिलहाल कुछ कम है सिंचाई उपयोग बाद बांध खाली होने पर इनकी तादाद बढ़ेगी। जलपक्षी गणना दौरान सभी बांध में धूप सेवन करते मगरमच्छ भी नजर आए। जलस्त्रोत बिंदुओं की दूरी अनुरूप एक्जाई होंगे। जलपक्षी गणना आंकड़े कार्यवाह सहायक वनसंरक्षक भेरूसिंह राठौड़ ने बताया कि जलपक्षी गणना के पहले चरण में चिन्हित 10प्राकृतिक जलस्त्रोत बिंदुओं पर यह गणना सम्पन्न हुई. गुरुवार व शुक्रवार को शेष 13जलस्त्रोत पर 1व2फरवरी को पूर्ण होगी जिसमें राजसमंद, नन्दसमन्द झील, रेनवा,फुलाद व रावली टॉडगढ़ के जलस्त्रोत पर जलपक्षी गणना होगी। सादडी व देसूरी रेंज के सभी बांध से जलपक्षी गणना में प्रवासी पक्षी के आंकड़े एक्जाई करने के बाद सार्वजनिक किए जाएंगे प्रारम्भिक रुझान में गतवर्ष की तुलना में आंशिक वृद्धि है यह सख्या बांध से पानी कम होने पर बढ़ेगी।


यह भी पढ़े    PAYTM पेटीएम का उपयोग करने वाले तुरंत देखे यह खबर, RBI रिजर्व बैंक ने लगाए ये प्रतिबंध


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
.site-below-footer-wrap[data-section="section-below-footer-builder"] { margin-bottom: 40px;}